mahendras

IBPS PO 2018 | IBPS Clerk 2018 | IBPS RRB 2018 | SBI PO 2018 | BOB PO 2018 | SSC CGL 2018 | RPF Constable 2018 | RPF SI | RRB ALP 2018 | RRB Group D 2018

Now Subscribe for Free videos

Subscribe Now

Tuesday, 13 February 2018

Spotlight: Shane Warne Becomes Rajasthan Royals Team Mentor.

Mahendra Guru : Online Videos For Govt. Exams

Spotlight: Shane Warne Becomes Rajasthan Royals Team Mentor.

Shane Warne becomes Rajasthan Royals team mentor.
The former Australian spin legend had led the team to the title in 2008.
Warne was the captain-cum-coach of the side which exceeded expectations by winning the trophy in 2008.The team will be playing the IPL this season after serving a two-year ban.The Australian led the Royals for three seasons from 2008 to 2011, during which he played 52 games and picked 56 wickets.

शेन वार्न बने राजस्थान रॉयल्स टीम के संरक्षक।

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई स्पिन लीजेंड ने 2008 में टीम को खिताब जिताया था।
वार्न ने कप्तान-सह-कोच के रूप में 2008 में ट्राफी जीतकर उम्मीदों के पार प्रदर्शन किया था।दो साल का प्रतिबंध लगाने के बाद टीम इस बार आईपीएल खेलेंगी।ऑस्ट्रेलियाई खिलाडी ने रॉयल्स के साथ 2008 से 2011 के बीच तीन सत्रों का नेतृत्व किया, जिसके दौरान उन्होंने 52 मैच खेला और 56 विकेट लिए।

Maharashtra Government Announces New Electric Vehicle Policy.

The government of Maharashtra has unveiled its Electric Vehicle Policy (EV Policy) for the year 2018. The policy aims, to attract both buyers and manufacturers, with tax cuts and other benefits.The policy is announced before state’s first investment summit 'Magnetic Maharashtra: Convergence'.

Six key points in the policy:

1. The first one lakh EVs to be registered in the state will be eligible for a 15 percent subsidy from the government.
2. The first 250 charging stations in the state will get a 25 percent capital subsidy from the government, subject to a cap of Rs 10 lakh per station.
3. EVs will be exempt from road tax and registration fees.
4. All EV manufacturers will be allowed to set up charging infrastructure at existing petrol pumps, subject to safety clearance from a competent authority.
5. The electricity tariff for charging infrastructure will be on par with the rates for residential consumers.

The first phase of the EV policy will be implemented across six cities, namely Mumbai, Nagpur, Pune, Thane, Aurangabad, and Nashik. The policy aims to manufacture five lakh EVs in the state in the next five years.

                               Spotlight:  Maharashtra Government Announces New Electric Vehicle Policy.

महाराष्ट्र सरकार ने नई इलेक्ट्रिक वाहन नीति की घोषणा की।

महाराष्ट्र सरकार ने वर्ष 2018 के लिए अपनी इलेक्ट्रिक वाहन नीति (ईवी नीति) का अनावरण किया है।
नीति का उद्देश्य, कर कटौती और अन्य लाभों के साथ खरीदार और निर्माताओं दोनों को आकर्षित करना है।
यह नीति राज्य के पहले निवेश सम्मेलन 'चुंबकीय महाराष्ट्र: कन्वर्जेंस' से पहले घोषित की गई है।

पॉलिसी में छह प्रमुख बिंदु है:

1. राज्य में पंजीकृत होने वाले पहले एक लाख ईवीस सरकार से 15 प्रतिशत सब्सिडी के लिए पात्र होंगे।
2. राज्य के पहले 250 चार्जिंग स्टेशनों को सरकार से 25 प्रतिशत की पूंजीगत सब्सिडी मिल जाएगी, जो कि प्रति स्टेशन 10 लाख रुपये की सीमा के अधीन होगी।
3. ईवी को सड़क कर और पंजीकरण शुल्क से छूट दी जाएगी।
4. सभी ईवी निर्माताओं को सक्षम प्राधिकारी से सुरक्षा मंजूरी के अधीन मौजूदा पेट्रोल पंप पर चार्जिंग बुनियादी ढांचा स्थापित करने की अनुमति दी जाएगी।
5. बुनियादी ढांचा चार्ज करने के लिए बिजली टैरिफ, आवासीय उपभोक्ताओं के दरों के बराबर होगी।

ईवी नीति का पहला चरण छह शहरों, जैसे मुंबई, नागपुर, पुणे, ठाणे, औरंगाबाद और नासिक में लागू किया जाएगा। अगले 5 वर्षों में राज्य में पांच लाख ईवी का निर्माण करने का उद्देश्य है।


Chandrababu Naidu is richest CM, Manik Sarkar poorest: Report

Chandrababu Naidu, the chief minister of Andhra Pradesh, is the richest Chief Minister in the country.
  • He has a total assets that worth Rs 177 crore.
  • The chief ministers of Arunachal Pradesh Pema Khandu is at second place.
  • He has assets that worth Rs 129 crore. 
  • The chief ministers of Punjab, Amarinder Singh is at third place. 
  • He has asset worth Rs 48 crore.
  • An analysis of the self sworn affidavits filed by chief ministers of 29 states and two Union Territories throws up interesting facts. 
  • Mamata Banerjee,the Cheif Minister of the West Bengal, has declared assets worth Rs 30 lakh only, with no immovable assets. 
  • Devendra Fadnavis, the Cheif Minister of Maharshtra, has the highest number of cases registered against him: (22+) .
  • Pinarayi Vijayan, the Cheif Minister of Kerala, has declared 11 criminal cases against himself in the affidavit is second. Delhi CM Arvind Kejriwal is third with 10 criminal cases registered against his name. 
  • The analysis, which was conducted by transparency body Association of Democratic Reforms (ADR), found that of the 31 CMs, 20 have clean records.
  • While 11, or 35%, have declared criminal cases. Eight (26%) have serious criminal cases.
  • The report says the average asset per CM is just over Rs 16 crore, with 25 of the 31 CMs being crorepatis. 
  • The three CMs with the lowest assests are Manik Sarkar of CPI(M) with Rs 26 lakh+ ,
  • Mamta Banerjee with Rs 30 lakh and Mehbooba Mufti of JKPDP with Rs 55 lakh. 
  • The report says that 55% of the CMs have assets worth Rs 1 crore to Rs 10 crore, with 19% having assets less than a crore.
  • 7% have assets worth Rs 100 crore and above. 
  • Education wise, the CMs have a consistent record, with 39% being graduates and another 32% being professionals. 
  • A significant 16% are post graduates and 10% have passed high school. 
  • Chief Minister of Sikkim, P K Chamling is a doctorate.
                         Spotlight: Chandrababu Naidu is richest CM, Manik Sarkar poorest: Report

चंद्रबाबू नायडू सबसे अमीर और मानिक सरकार सबसे गरीब मुख्यमंत्री: रिपोर्ट
  • आंध्र प्रदेश के मुख्य मंत्री चंद्रबाबू नायडू देश में सबसे अमीर मुख्यमंत्री हैं।
  • उनकी कुल संपत्ति 177 करोड़ रुपये है।
  • अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू दूसरे स्थान पर हैं।
  • उनके पास 129 करोड़ रुपये की संपत्ति है।
  • पंजाब के मुख्यमंत्री, अमरिंदर सिंह तीसरे स्थान पर हैं।
  • उनके पास 48 करोड़ रुपये की संपत्ति है।
  • 29 राज्यों और दो संघ राज्य क्षेत्रों के मुख्यमंत्रियों द्वारा दायर स्व-शपथ पत्रों का विश्लेषण दिलचस्प तथ्यों को दिखता है।
  • पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 30 लाख रुपये की संपत्ति की घोषणा की है, जिसमें अचल संपत्ति नहीं है।
  • महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के खिलाफ दर्ज 22+ ऍफ़आईआर सबसे उच्चतम संख्या है।
  • केरल के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन ने शपथ पत्र में खुद के खिलाफ 11 आपराधिक मामले हैं। 
  • दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ 10 आपराधिक मामले दर्ज है।
  • पारदर्शिता संगठन एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) द्वारा किए गए विश्लेषण में पाया गया कि 31 में से 20 सीएम् के रिकॉर्ड साफ़ है।
  • जबकि 11, या 35%, ने आपराधिक मामलों की घोषणा की है आठ (26%) पर गंभीर आपराधिक मामले हैं।
  • रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रति मुख्यमंत्री औसत संपत्ति 16 करोड़ रुपये से अधिक है, जिसमें से 31 में से 25 सीएम करोड़पति हैं।
  • कम संपत्ति वाले तीन मुख्यमंत्रियों में माकपा के मणिक सरकार 26 लाख रुपये के साथ पहले हैं,
  • ममता बनर्जी के पास 30 लाख रुपये और जेकेपीडीपी के मेहबौबा मुफ्ती के पास 55 लाख रुपये की संपत्ति है।
  • रिपोर्ट में कहा गया है कि 55% मुख्यमंत्रियों की संपत्ति 1 करोड़ रुपये से 10 करोड़ रुपये है, जिसमें 19% की संपत्ति एक करोड़ से भी कम है।
  • 7% के पास 100 करोड़ रुपए या उससे अधिक की संपत्ति है।
  • शिक्षा के अनुसार, मुख्यमंत्रियों के पास औसत रिकॉर्ड है, जिनमें 39% स्नातक हैं और 32% पेशेवर हैं।
  • 16% स्नातकोत्तर हैं और 10% उच्च माध्यमिक पास कर चुके हैं।
  • सिक्किम के मुख्यमंत्री, पी के चामलिंग एक डॉक्टरेट हैं।
Gadkari releases India's first 'Highway Capacity Manual'

Union Minister Nitin Gadkari today released country's first ever Highway Capacity Manual (HCM) which will guide road engineers and policymakers about road expansion.

The manual known as 'Indo-HCM' has been developed by CSIR-CRRI on the basis of an extensive, country-wide study of the traffic characteristics on different categories of roads like single lane, two-lane, multi-lane urban roads, interurban highways and expressways and the associated intersections on these roads, the Ministry of Road Transport and Highways said in a statement.

The road transport and shipping minister "released India's first ever Highway Capacity Manual. The manual will guide Road Engineers and Policy Makers about Road Expansion".

The study involved seven academic institutions including IIT-Roorkee, Mumbai and Guwahati, School of Planning and Architecture, New Delhi, Indian Institute of Engineering and Science and Technology, Shibpur, Sardar Vallabhai Patel National Institute of Technology, Surat and Anna University, Chennai.

                                Spotlight: Gadkari Releases India's First 'Highway Capacity Manual'

गडकरी ने देश की पहली ‘राजमार्ग क्षमता नियमावली’ पेश की

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने देश की पहली ‘राजमार्ग क्षमता नियमावली’ (एचसीएम) पेश की। यह सड़क अभियंताओं और नीति निर्माताओं को सड़क विस्तार में मदद करेगी।

इस नियमावली को ‘इंडो-एचसीएम’ के तौर पर जाना जाता है। इसे वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद के तहत आने वाले केंद्रीय सड़क अनुसंधान संस्थान (सीएसआईआर-सीआरआरआई) ने तैयार किया है।

इसे तैयार करने के लिए संस्थान ने देशभर में विभिन्न प्रकार की सड़कों पर यातायात के दबाव का गहन अध्ययन किया है। इसमें सिंगल लेन, डबल लेन, शहरी सड़कों की मल्टी लेन के साथ अंतर-शहरी राजमार्ग और एक्सप्रेसवे के साथ इनसे जुड़ने वाली सहयोगी सड़कों इत्यादि पर यातायात के दबाव का अध्ययन किया गया है।

इस अध्ययन में सीआरआरआई ने सात शैक्षणिक संस्थानों की भी मदद ली। इनमें आईआईटी-रुड़की, मुंबई और गुवाहाटी, योजना एवं वास्तुकला विद्यालय-नयी दिल्ली, भारतीय अभियांत्रिकी विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान-शिवपुर, सरदार वल्लभ भाई पटेल राष्ट्रीय तकनीक संस्थान सूरत और अन्ना विश्वविद्यालय चेन्नई शामिल हैं।

Copyright © 2017-18 www.mahendraguru.com All Right Reserved Powered by Mahendra Educational Pvt . Ltd.