mahendras

IBPS PO 2018 | IBPS Clerk 2018 | IBPS RRB 2018 | SBI PO 2018 | BOB PO 2018 | SSC CGL 2018 | RPF Constable 2018 | RPF SI | RRB ALP 2018 | RRB Group D 2018

Now Subscribe for Free videos

Subscribe Now

Sunday, 18 February 2018

Banking Awareness Quiz For Syndicate Bank PO : 18 - 02 - 18

Mahendra Guru : Online Videos For Govt. Exams
Banking Awareness Quiz For Syndicate Bank PO : 17 - 02 - 18


Q1.If the Cash Reserve Ratio is lowered by the Central Bank, what will be its effect on credit creation?

(1) It will decrease

(2) It will increase

(3) There will be no change

(4) There will be a minimum change

(5) None of these

Q1.यदि केंद्रीय बैंक द्वारा नकद आरक्षित अनुपात को कम कर दिया जाता है तो साख निर्माण पर इसका क्या प्रभाव होगा?

(1) यह कम हो जाएगा

(2) इसमे वृद्धि होगी

(3) कोई परिवर्तन नहीं होगा

(4) एक न्यूनतम परिवर्तन आएगा

(5) इनमें से कोई नहीं

Q2.Which of the following categories of loans can be priced by bank without reference to the Base Rate?

(1) DRI advance

(2) Loans to banks own employees

(3) Loans to banks depositors against their own deposits.

(4) All of the above

(5) None of these

Q2.ऋण की निम्नलिखित श्रेणियों में से, किसका मूल्य बैंकों द्वारा आधार दर के संदर्भ के बिना ही निर्धारित किया जा सकता है?

(1) डीआरआई अग्रिम

(2) बैंक के अपने कर्मचारियों के लिए ऋण

(3) बैंक के जमाकर्ताओं को उनके जमा के विरूद्ध ऋण

(4) उपरोक्त सभी

(5) इनमें से कोई नहीं

Q3.It is mandatory to formulate consortium, if one of the following conditions is fulfilled. What is that condition?

(1) When the credit facilities from one bank are more than Rs. 100 crore.

(2) When the amount of credit facilities is exceeding exposure ceiling of the bank.

(3) When the credit facilities are more than Rs. 50 crore and the borrower is dealing with more than one bank.

(4) None of the above, as now banks are free to decide the consortium rules.

(5) All of the above

Q3.निम्नलिखित में से यदि एक स्थिति पूरी हो रही हो तो, संघ को लागू करना अनिवार्य होता है, वह स्थिति क्या है?

(1) जब एक बैंक की साख सुविधाएं 100 करोड़ रू. से अधिक हो।

(2) जब ऋण सुविधाओं की राशि, बैंक की जोखिम सीमा से अधिक हो।

(3) जब ऋण सुविधाएं 50 करोड़ रू. से अधिक हों तथा ऋण लेने वाला, एक से अधिक बैंकों के साथ से संबंधित हो

(4) उपरोक्त में से कोई नहीं, क्योंकि बैंक संघ के नियम निश्चित करने के लिए मुक्त होते है।

(5) उपरोक्त सभी

Q4.‘Devaluation’ means _____.

(1) Converting rupees into gold

(2) Lowering of the value of one currency in comparison of some foreign currency

(3) Making rupee dearer in comparison to some foreign currency

(4) All of the above

(5) None of these

Q4.‘अवमूल्यन’ का अर्थ ----------------- है।

(1) रूपयों को सोने में परिवर्तित करना

(2) किसी विदेशी मुद्रा की तुलना में एक मुद्रा के मूल्य को कम करना

(3) किसी विदेशी मुद्रा की तुलना में रूपये के मूल्य को बढ़ाना

(4) उपरोक्त सभी

(5) इनमें से कोई नहीं

Q5.Forward Markets Commission (FMC) is merged in SEBI. Which of the following ministries of the Government of India supervised it?
(1) Ministry of Commerce and Industry, Govt. of India

(2) Ministry of Consumer Affairs, Food and Public Distribution, Govt. of India

(3) Ministry of Drinking Water and Sanitation, Govt. of India

(4) Ministry of Human Resource Development, Govt. of India

(5) None of these

Q5.फॉरवर्ड मार्केट कमीशन (एफएमसी) सेबी में विलय हो गया है। भारत सरकार के निम्न मंत्रालयों में से कौन सा इसका प्रबन्धन करता था?


(1) वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय, भारत सरकार

(2) उपभोक्ता मामलों का मंत्रालय, खाद्य और सार्वजनिक वितरण, भारत सरकार

(3) पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय, भारत सरकार

(4) मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार

(5) इनमें से कोई नहीं

Q6.Which of the following accounts are eligible under Corporate Debt Restructuring System?

(1) Fraud and malfeasance account

(2) Account of willful defaulters

(3) BIFR accounts in normal course

(4) Suit filled accounts where 75% of the creditor (by value) and 60% of the creditors (by number) exist

(5) None of these

Q6.निम्नलिखित खातों में से कौन सा, कॉरपोरेट ऋण पुनर्गठन प्रणाली के तहत पात्र है?

(1) धोखाधड़ी तथा भ्रष्टाचार खाता

(2) जानबूझकर चूककर्ता खाते

(3) सामान्य स्थिति में बीआईएफआर खाते

(4) वह खाते जहाँ 75% लेनदार (मूल्य से) तथा 60% लेनदार (संख्या में), उपस्थित हो

(5) इनमें से कोई नहीं

Q7.In case of a credit card, if a complaint does not get satisfactory response from the bank within a maximum period of ___________ days from the date of lodging the complaint, then there is an option to approach the office of the concerned Banking Ombudsman for redressal of grievance/s.
(1) 10 days

(2) 40 days

(3) 15 days

(4) 30 days

(5) None of these

Q7.क्रेडिट कार्ड के संबंध में, यदि शिकायत दर्ज कराने की तारीख से _________ दिनों की अवधि के भीतर किसी शिकायत पर बैंक से संतोषजनक प्रतिक्रिया नहीं मिलती है तो, शिकायत के निवारण के लिए संबंधित बैंकिग लोकपाल के कार्यालय में अपील करने का विकल्प होता है।

(1) 10 दिन

(2) 40 दिन

(3) 15 दिन

(4) 30 दिन

(5) इनमें से कोई नहीं

Q8.________ is defined as a credit facility in respect of which the interest and/or installment of principal has remained ‘past due’ for a specified period of time.
(1) Overdraft

(2) Mortgage

(3) 1 and 2

(4) Non-performing Asset

(5) None of these

Q8.--------- को एक क्रेडिट सुविधा के रूप में परिभाषित किया गया है जिसके संबंध में मूलधन का ब्याज और/या किश्त एक निर्दिष्ट समय अवधि के लिए बकाया रही है।
(1) ओवरड्राफ्ट

(2) बंधक

(3) 1 और 2

(4) गैर निष्पादित परिसंपत्ति

(5) इनमें से कोई नहीं

Q9.VAT is imposed -

(1) Direct on Consumer

(2) On first stage of production

(3) On final stage of production

(4) On all stages between production and final sale

(5) None of these

Q9.VAT (वैट) ----- लगाया जाता है।

(1) ग्राहक पर प्रत्यक्ष रूप से

(2) उत्पादन के प्रथम चरण पर

(3) उत्पादन के अन्तिम चरण पर

(4) उत्पादन तथा विक्रय के बीच सभी चरणों पर

(5) इनमें से कोई नहीं

Q10.The working capital limits sanctioned by banks, particularly the Cash Credit Limit, is repaid out of ____________.

(1) Loans from friends

(2) Capital from promoters

(3) Credit from market

(4) Sale proceeds of the current assets

(5) Sale proceeds of fixed assets

Q10.बैंकों द्वारा मंजूर कार्यशील पूंजी की सीमा, विशेष रूप से नकद ऋण सीमा, को ___________ द्वारा चुकाया जाता है।

(1) मित्रों द्वारा ऋण

(2) प्रवर्तकों द्वारा पूंजी

(3) बाजार द्वारा साख

(4) वर्तमान परिसंपत्तियों का विक्रयागम

(5) स्थायी सम्पत्तियों का विक्रयागम

Answer Key with Explanation:

Q.1 (2)

The commercial banks are the second most important source of money supply. The money that commercial banks supply is called credit money. If the CRR is lowered by the Central Bank, the credit creation will increase.

वाणिज्यिक बैंक धन की आपूर्ति के दूसरे सबसे महत्वपूर्ण स्रोत हैं।वह धन जिसकी आपूर्ति वाणिज्यिक बैंक करता है, को साख मुद्रा कहा जाता है। यदि केंद्रीय बैंक द्वारा नगद आरक्षित अनुपात को कम कर दिया जाये तो साख निर्माण में वृद्धि होगी।

Q.2 (4)

All these categories of loans can be priced by banks without reference to the Base Rate.

उपरोक्त सभी श्रेणियों के ऋण का मूल्य, बैंकों द्वारा बिना आधार दर के सदंर्भ के निर्धारित किया जा सकता है।

Q.3 (2)

It is mandatory to formulate consortium if the amount of credit facilities is exceeding exposure ceiling of the bank.

यदि ऋण सुविधाओं की राशि, बैंक की जोखिम सीमा से अधिक होती है तो संघ का निर्माण अनिवार्य होता है।

Q.4 (2)

Devaluation is the reduction in the value of one currency in relation to other currencies. For example, when Mexico devalued the peso, more pesos were required to obtain a given amount of a foreign currency.

अवमूल्यन, किसी अन्य (विदेशी मुद्रा) की तुलना में एक मुद्रा के मूल्य को कम करना है। उदाहरण के लिए, जब मैक्सिको ने पेसो का अवमूल्यन किया, तब एक विदेशी मुद्रा की निश्चित राशि प्राप्त करने के लिए अधिक पेसो की आवश्यकता थी।

Q.5 (2)

Forward Markets Commission (FMC) was a regulatory authority which was overseen by the Ministry of Consumer Affairs, Food and Public Distribution, Govt. of India. It was a statutory body set up in 1953 under the Forward Contracts (Regulation) Act, 1952.

वायदा बाजार आयोग (एफएमसी) एक नियामक प्राधिकरण था जिसका उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय, खाद्य और सार्वजनिक वितरण, भारत सरकार द्वारा प्रबन्धन किया जाता था। यह एक नियामक प्राधिकरण था जिसकी स्थापना 1953 में वायदा संविदा (विनियमन) अधिनियम, 1952 के तहत हुई थी।

Q.6 (4)

Accounts, where 75% of the creditors (by value) and 60% of the creditors (by number), comes under CDR system.

वह खाते जहाँ 75% लेनदान ष्मूल्य सेष् तथा 60% लेनदार ष्संख्या सेष् उपस्थित हो, वह कॉरपोरेट ऋण पुनर्गठन प्रणाली है।

Q.7 (4)

If a complaint is not solved within 30 days by bank then there is a option to approach Banking Ombudsman.

यदि किसी शिकायत का 30 दिनों के भीतर बैंक द्वारा निवारण नहीं किया जाता तो बैंकिग लोकपाल से अपील करने का विकल्प होता है।

Q.8 (4)

Non-performing Asset is defined as a credit facility in respect of which the interest and/or installment of principal has remained ‘past due’ for a specified period of time.

गैर निष्पादित परिसंपत्ति को एक क्रेडिट सुविधा रूप में परिभाषित किया गया है जिसके संबंध में मूलधन का ब्याज और/ या किश्त एक निर्दिष्ट समय अवधि के लिए बकाया रही है।

Q.9 (4)

VAT is imposed on all stages between production and final sale.

वैट, उत्पादन तथा अन्तिम विक्रय के बीच सभी चरणों पर लगाया जाता है।

Q-10 (4)

They are repaid out of sale proceeds of the current assets.

इन्हें वर्तमान परिसम्पत्तियों का विक्रयागम द्वारा चुकाया जाता है।




Copyright © 2017-18 www.mahendraguru.com All Right Reserved Powered by Mahendra Educational Pvt . Ltd.