mahendras

Now Subscribe for Free videos

Subscribe Now

Thursday, 22 March 2018

Spotlight : Kerala CM Pinarayi Vijayan launches Unified Governance App at Global Digital Summit

mahendra Guru

Spotlight : Kerala CM Pinarayi Vijayan launches Unified Governance App at Global Digital Summit


Kerala CM Pinarayi Vijayan launches Unified Governance App at Global Digital Summit

  • Kerala Chief Minister Pinarayi Vijayan unveiled a unified mobile app that will help the state’s citizens to skim the bureaucratic hassles and utilise government services effectively. Citizens can access 100+ government service utilities through the app. 
  • The launch of the app came at #future – a global digital summit in Kochi conducted to streamline conversations between government officials and industry leaders and brainstorm ideas on paving the way ahead for the state’s digital transformation.
  • The chief minister stressed that the government recognises the potential of digital technologies in transforming the state’s socio-economic landscape. He said the government will provide 1000 free public WiFi spots in parks and libraries and connect offices and homes with optical fibre network.
केरल के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन ने वैश्विक डिजिटल सम्मेलन में एकीकृत प्रशासन एप का शुभारंभ किया।
  • केरल के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन ने एक एकीकृत मोबाइल ऐप का अनावरण किया जिस से राज्य के नागरिकों को नौकरशाही की परेशानियों को दूर करने और सरकारी सेवाओं को प्रभावी ढंग से इस्तेमाल करने में मदद मिलेगी। ऐप के माध्यम से नागरिक 100 से अधिक सरकारी सेवा उपयोगिता का उपयोग कर सकते हैं। 
  • ऐप्प का शुभारंभ, कोच्चि में '#फ्यूचर-ग्लोबल डिजिटल शिखर सम्मेलन' में हुआ, जिसमें सरकारी अधिकारी और उद्योग के लीडर के बीच वार्तालाप को सुचारु रूप से संचालित किया गया, और राज्य के डिजिटल परिवर्तन के लिए रास्ता आगे बढ़ने पर विचार मंथन का आयोजन किया गया।
  • मुख्यमंत्री ने जोर देकर कहा कि सरकार राज्य के सामाजिक-आर्थिक परिदृश्य को बदलने में डिजिटल प्रौद्योगिकियों की क्षमता को पहचानती है। उन्होंने कहा कि सरकार पार्क और पुस्तकालयों में 1000 निशुल्क सार्वजनिक वाईफाई स्पॉट प्रदान करेगी और ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क के साथ कार्यालयों और घरों को कनेक्ट करेगी।

India's Elavenil Valarivan wins gold in ISSF Junior World Cup.
  • Indian shooter Elavenil Valarivan shattered the world record and claimed the gold medal in 10m women's air rifle event of the season's first junior ISSF World Cup. Besides her individual podium finish, Elavenil also combined with Shreya Agrawal and Zeena Khitta to claim the team gold medal.
  • Arjun Babuta bagged his second junior world cup medal, claiming a bronze in men's 10m air rifle event. The 18-year-old Elavenil, competing in her second World Cup and first final, shot 249.8 in the women's final to claim the top individual honours. Her 631.4 in the qualification was a new world record.
  • After a 9.6, Elavenil sealed the win with a high 10.7 in the crucial 24th shot, getting the better of Chinese Taipei's Lin Ying-Shin. She had also won a bronze medal at the FISU World Shooting Sport Championship last week. China's Wang Zeru managed to win the bronze medal with a score of 228.4 in her first World Cup appearance.
  • India's other finalists in the event — Shreya and Zeena — finished sixth and seventh, respectively, enough to clinch the team gold medal ahead of Chinese Taipei's Lin, Tsai Yi-Ting and Hung Chen-Ching. The bronze was claimed by Zhu, Wang and Gao Mingwei of China.
  • Babuta, a silver medallist at last year's Asian Championship in Wako City, Japan, finished below Yuqi Liu of China (247.1) and Zalan Pekler (246) of Hungary, with a score of 226.3. The other Indian shooters in the event — Surya Pratap Singh and Shahu Tushar Mane — finished sixth and eighth respectively.
आईएसएसएफ जूनियर विश्व कप में भारत की एलवेनिल वैलेरिवन ने स्वर्ण पदक जीता
  • भारतीय शूटर एलवेनिल वैलेरिवन ने विश्व रिकॉर्ड को तोड़ दिया और सीजन की पहली जूनियर आईएसएसएफ विश्व कप के 10 मीटर महिला एयर राइफल आयोजन में स्वर्ण पदक प्राप्त किया। उनके व्यक्तिगत जीत के अलावा, एलवेनिल ने श्रेया अग्रवाल और जेनेखाता के साथ मिलकर टीम के लिए स्वर्ण पदक प्राप्त किया।
  • अर्जुन बाबूता ने अपना दूसरा जूनियर वर्ल्ड कप पदक जीता, पुरुषों की 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में कांस्य प्राप्त किया। 18 वर्षीय एलावेनिल ने अपने दूसरे विश्व कप और पहले फाइनल प्रतिस्पर्धा में महिला श्रेणी में 249.8 अंक के साथ शीर्ष व्यक्तिगत सम्मान का दावा किया। उनकी 631.4 योग्यता में एक नया विश्व रिकॉर्ड था।
  • 9.6 के बाद, एलवेनिल ने महत्वपूर्ण 24 वें शॉट में 10.7 की ऊँचाई के साथ जीत हासिल कर ली, जिससे चीनी ताइपे की लिन यिंग-शिन से बेहतर रही। उन्होंने पिछले हफ्ते फिसु वर्ल्ड शूटिंग स्पोर्ट चैम्पियनशिप में कांस्य पदक भी जीता था। चीन के वांग ज़रू ने अपने पहले विश्व कप में 228.4 के स्कोर के साथ कांस्य पदक जीता।
  • इस आयोजन में भारत के अन्य फाइनलिस्ट - श्रेया और ज़ीना - क्रमशः छठे और सातवें स्थान पर रही, चीनी तैपेई की लिन, त्सई यी-टिंग और हेंग चेन-चिंग से आगे रहीं जो टीम स्वर्ण पदक जीतने के लिए पर्याप्त था। कांस्य झू, वैंग और चीन के गाओ मिंगवेई द्वारा दावा किया गया था।
  • जापान में वाको सिटी में पिछले साल की एशियाई चैम्पियनशिप में रजत पदक विजेता बाबू, 226.3 के अंक के साथ चीन के युकी लुइ (247.1) और हंगरी की जलन पेकलर (246) से नीचे थी। इस घटना में अन्य भारतीय निशानेबाजों - सूर्य प्रताप सिंह और शाहू तुषार माने क्रमशः छठे और आठवें स्थान पर रहे।

Spotlight : India Has Successfully Flight-Tests Supersonic Cruise Missile Brahmos


India Has Successfully Flight-Tests Supersonic Cruise Missile Brahmos.
  • India has successfully flight-tested its precision strike BrahMos weapon, which is called the world's fastest supersonic cruise missile. The BrahMos hit its designated target with a pin point accuracy in Pokhran, Rajasthan.
  • Defence minister Nirmala Sitharaman congratulated the Defence Research and Development Organisation for the successful fight test, and said it will be a further boost for the country's security.
  • Earlier, the Brahmos was successfully test-fired for the first time, from the Indian Air Force's frontline Sukhoi-30 MKI combat jet.
  • BrahMos has become the preferred conventional precision strike-weapon for the armed forces. The sleek supersonic cruise missile flies at almost three times the speed of sound, at Mach 2.8. 
  • The armed forces have already inducted the 290-km range land, and warship-based versions of the BrahMos missiles over the last decade. 
भारत ने सफलतापूर्वक सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस का उड़ान परीक्षण किया।
  • भारत ने अपने सटीक आक्रमण वाली ब्रह्मोस मिसाइल का सफलतापूर्वक उड़ान परीक्षण किया है, जिसे दुनिया का सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल कहा जाता है। ब्रह्मोस ने पोखरण, राजस्थान में पिन बिंदु सटीकता के साथ अपने नामित लक्ष्य पर प्रहार किया।
  • रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने सफल उड़ान परीक्षा के लिए रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन को बधाई दी और कहा कि यह देश की सुरक्षा के लिए एक प्रोत्साहन होगा।
  • इससे पहले, भारतीय वायुसेना की अग्रिम रेखा सुखोई -30 एमकेआई लड़ाकू जेट से पहली बार ब्रह्मोस का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया था।
  • सशस्त्र बलों के लिए ब्रह्मोस पसंदीदा परंपरागत सटीक आक्रमण वाला हथियार बन गया है। सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल, मच 2.8 पर ध्वनि की गति से लगभग तीन गुना तेज उड़ता है।
  • पिछले दशक में सशस्त्र बलों ने पहले ही 290 किलोमीटर लंबी भूमि और ब्रह्मोस मिसाइलों के युद्धपोत आधारित संस्करणों को शामिल कर लिया है।

Spotlight : Surrogacy (Regulation) Bill, 2016


Surrogacy (Regulation) Bill, 2016
  • The Cabinet, gave its approval for moving official amendments in a bill which aims at banning commercial surrogacy, allowing altruistic surrogacy to needy infertile couples and its effective regulation in the country.
  • The 'Surrogacy (Regulation) Bill, 2016' proposes to regulate surrogacy by establishing appropriate authorities at the central level and in states and Union Territories.
  • Once the bill is enacted by the Parliament, the National Surrogacy Board will be constituted and the states and Union Territories will have to constitute the State Surrogacy Board and State Appropriate Authorities within three months of the notification by the central government.
  • The 228th report of the Law Commission had recommended prohibiting commercial surrogacy and allowing ethical altruistic surrogacy by enacting a suitable legislation.
  • The 'Surrogacy (Regulation) Bill, 2016' was introduced in the Lok Sabha on 21 November in 2016 and was referred to the Parliamentary Standing Committee on Health and Family Welfare in January 2017.
  • The Parliamentary Standing Committee held various meetings with stakeholders, central government ministries/department, NGOs, medical professionals, lawyers, researchers, commissioning parents and surrogate mothers to receive their suggestions.
  • The 102nd report of the departmental-related Parliamentary Standing Committee on Health and Family Welfare on the Bill was tabled in Rajya Sabha and simultaneously in Lok Sabha on 10 August, last year.
  • The panel had recommended that there should be no discrimination against people of Indian-origin living abroad seeking to use surrogacy services in India. There is "no point" in restricting Non-Resident Indians (NRIs), Persons of Indian Origin (PIOs) and Overseas Citizen of India (OCI) from using surrogacy services, the panel's report, tabled in Parliament recently, had said.
  • While recommending that foreign nationals be kept out of the Surrogacy (Regulation) Bill, 2016, it advocated an appropriate mechanism for a complete background check of NRIs, PIOs and OCIs intending to use the services of surrogates to bear a child on their behalf.
सरोगेसी (विनियमन) विधेयक, 2016.
  • मंत्रिमंडल ने विधेयक में सरकारी संशोधनों को आगे बढ़ाने के लिए अपनी मंजूरी दे दी, जिसका उद्देश्य वाणिज्यिक सरोगेसी पर प्रतिबंध लगाने, देश में जरूरतमंद निसंतान जोड़ों के लिए परोपकारी सरोगेसी की अनुमति और उसके प्रभावी विनियमन है।
  • 'सरोगेसी (विनियमन) विधेयक, 2016' केंद्रीय स्तर, राज्यों और संघ शासित प्रदेशों में उपयुक्त अधिकारियों की स्थापना करके सरोगेसी को विनियमित करने का प्रस्ताव रखा है।
  • एक बार संसद द्वारा अधिनियमित किए जाने के बाद, राष्ट्रीय सरोगेसी बोर्ड का गठन किया जाएगा, और केंद्र सरकार द्वारा अधिसूचना के तीन महीनों के भीतर राज्यों और संघ शासित प्रदेशों को राज्य सरोगेसी बोर्ड और राज्य उपयुक्त प्राधिकरणों का गठन करना होगा।
  • विधि आयोग की 228 वीं रिपोर्ट ने वाणिज्यिक सरोगेसी पर रोक लगाने की सिफारिश की थी, और एक उपयुक्त विधि के द्वारा नैतिक परोपकारी सरोगेसी की अनुमति देने के लिए कहा था।
  • 'सरोगेसी (विनियमन) विधेयक, 2016' को 2016 में 21 नवंबर को लोकसभा में पेश किया गया था और जनवरी 2017 में स्वास्थ्य और परिवार कल्याण पर संसदीय स्थायी समिति को भेजा गया था।
  • संसदीय स्थायी समिति ने अपने सुझाव प्राप्त करने के लिए हितधारकों, केंद्रीय सरकार के मंत्रालयों / विभागों, गैर-सरकारी संगठनों, चिकित्सा पेशेवरों, वकीलों, शोधकर्ताओं, निसंतान माता-पिता और सरोगेट माताओं के साथ विभिन्न बैठकें की।
  • विधेयक पर स्वास्थ्य और परिवार कल्याण संबंधी विभागीय संसदीय स्थायी समिति की 102 वीं रिपोर्ट को पिछले साल 10 अगस्त को राज्यसभा और साथ ही साथ लोकसभा में पेश किया गया था। 
  • पैनल ने सिफारिश की थी कि विदेशों में रहने वाले भारतीय मूल के लोगों के खिलाफ भारत में सरोगेसी सेवा का इस्तेमाल करने के लिए कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए। हाल ही में संसद में पेश की गई पैनल की रिपोर्ट ने कहा था की सरोगेसी सेवाओं का उपयोग करने से अनिवासी भारतीयों (एनआरआई), भारतीय मूल के व्यक्ति (पीआईओ) और भारत के विदेशी नागरिक (ओसीआई) को प्रतिबंधित करने में "कोई मतलब नहीं है"।
  • जबकि विदेशी नागरिकों को सरोगेसी (विनियमन) बिल 2016 से बाहर रखने की सिफारिश करते हुए, एनआरआई, पीआईओ और ओसीआई की पूरी पृष्ठभूमि की जांच के लिए एक उपयुक्त तंत्र की वकालत की, जिनका संतान प्राप्ति के लिए सरोगेसी की सेवाओं का उपयोग करने का इरादा है।

Spotlight : Cabinet Approves Ayushman Bharat – National Health Protection Mission

Cabinet approves Ayushman Bharat – National Health Protection Mission
  • The Union Cabinet chaired by the Prime Minister Narendra Modi has approved the launch of a new Centrally Sponsored Ayushman Bharat -National Health Protection Mission (AB-NHPM) having central sector component under Ayushman Bharat Mission anchored in the MoHFW.
  •  The scheme has the benefit cover of Rs. 5 lakh per family per year. The target beneficiaries of the proposed scheme will be more than 10 crore families belonging to poor and vulnerable population based on SECC database. AB-NHPM will subsume the on-going centrally sponsored schemes -RashtriyaSwasthyaBimaYojana (RSBY) and the Senior Citizen Health Insurance Scheme (SCHIS).
मंत्रिमंडल ने आयुष्‍मान भारत-राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍यसुरक्षा मिशन को स्‍वीकृति दी
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने केन्‍द्र प्रायोजित आयुष्‍मान भारत-राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा मिशन (एबी-एनएचपीएम) लांच करने की स्‍वीकृति दे दी है।इसमें स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय के अनुष्‍मान मिशन के अंतर्गत केन्‍द्रीय क्षेत्र के घटक शामिल हैं। 
  • इस योजना में प्रति वर्ष प्रति परिवार को पांच लाख रुपये का लाभ कवर किया गया है। प्रस्‍तावित योजना के लक्षित लाभार्थी दस करोड़ से अधिक परिवार होंगे। यह परिवार एसपीसीसी डाटा बेस पर आधारित गरीब और कमजोर आबादी के होंगे। एबी-एनएचपीएम में चालू केन्‍द्र प्रायोजित योजनाओं-राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य बीमा योजना (आरएसबीवाई) तथा वरिष्‍ठ नागरिकस्‍वास्‍थ्य बीमा योजना (एससीएचआईएस) समाहित होंगी।

Copyright © 2017-18 www.mahendraguru.com All Right Reserved Powered by Mahendra Educational Pvt . Ltd.